हार्दिक पांड्या Full Story In Hindi | Biography

हार्दिक पांड्यादोस्तो आज में बात करने जा रहा हूं, भारतीय क्रिकेट के एक उभरते हुए ऑलराउंडर खिलाड़ी ,हार्दिक पांड्या की. दोस्तों अगर आपने 18-06-17 तारीख को हुए चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल मैच को देखा होगा तो ,आप इस खिलाड़ी के टैलेंट से पूरी तरह से वाकिफ हो चुके होंगे .हां ,मैं मानता हूं, कि टीम इंडिया का मैच पाकिस्तान से बहुत बुरी तरीके से हार गई ,लेकिन पांड्या की बैटिंग ने, हम सबका दिल जीत लिया .भारतीय टीम के हारने के बाद भी, हर जगह हार्दिक पांड्या का ही नाम था.

तो चलिए दोस्तों ,बिना आपका ज्यादा समय लिए शुरू करते हैं. हार्दिक पांड्या का जन्म 11 अक्टूबर 1993 को गुजरात के सूरत में हुआ था .उनके पिता का नाम हिमांशु पंड्या था .जो एक छोटा सा कार फाइनेंस का बिजनेस चलाते थे .हार्दिक के अलावा उनका एक बड़े भाई कृणाल पांड्या भी है. बचपन से ही दोनों भाइयों में क्रिकेट के खेल को लेकर एक अलग ही जूनून था ,और इसीलिए आर्थिक हालत बहुत अच्छी ना होने के बावजूद ,उनके पिता सूरत से बड़ौदा शिफ्ट हो गए ,और वहां अपने दोनों बेटों को भारत के पूर्व क्रिकेटर किरण मोरे के क्रिकेट अकादमी में एडमिशन दिलवा दिया .

उस समय हार्दिक पांड्या की उम्र 5 साल और उनके बड़े भाई कृणाल की उम्र करीब सात साल थी. क्रिकेट अकेडमी ज्वाइन करने के बाद ,दोनों भाइयों ने बहुत ही जल्द ही एक अच्छी क्रिकेट खेलने लगे और किरण मोरे को भी काफी प्रभावित किया. जिसके बाद किरण मोरे ने उनकी आर्थिक हालत को देखते हुए, उनके अगले 3 साल की फीस माफ़ कर दी. अगर हार्दिक पांड्या की स्कूलिंग की .बात करें तो ,MK हाई स्कूल से केवल 9th तक उन्होंने की पढ़ाई की ,और फिर को अपना पूरा समय देने के लिए पढ़ाई बीच में छोड़ दी .फिर क्या ,कहते हैं ना, कि किसी चीज को दिल से चाहो ,तो पूरी कायनात उसे आपसे मिलाने की साजिश में लग जाती है.

बहुत ही जल्द पांड्या ने प्रोफेशल क्रिकेट में कदम रख दिया और फिर बड़ौदा की तरफ से खेलते हुए 2013 -14 में सईद मुस्ताक अली ट्रॉफी में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. और सबका ध्यान अपनी तरफ आकर्षित किया .अगले साल उनके जबरदस्त प्रदर्सन को देखते हुए ,उन्हें IPL में मुंबई इंडियंस की तरफ से खेलने का मौका दिया गया, और अपने पहले ही मैच में उन्होंने RCB के खिलाफ दूसरे ही गेंद पर छक्का जड़ दिया . लेकिन उनके टैलेंट की असली पहचान तब हुयी ,जब उन्होंने CSK के खिलाफ केवल 8 गेदो में, 21 रनो की तेज पारी खेली और साथ ही साथ , 3 महत्वपूर्ण कैच भी लिए. उसके लिए पंड्या को मैन ऑफ़ द मैच चुना गया .तभी क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले, सचिन तेंदुलकर, हार्दिक को देखते हुए कहा ,कि तुम अगले डेढ़ साल में भारतीय टीम के लिए जरूर खेलोगे .

सचिन की भविष्यवाणी भी जल्दी सच हो गई, और सिर्फ 1 साल के अंदर ,27 जनवरी 2016 को पंड्या ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी-20 मैच में डेब्यू किया .इसमें उन्होंने 2 विकेट लिए ,उसी साल 16 अक्टूबर को हार्दिक पांड्या न्यूज़ीलैण्ड के खिलाफ अपना ODI डेब्यू भी किया और उस मैच में 3 विकेट लेते हुए ,उन्होंने भारत की जीत में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई .साथ ही साथ वे भारत के चौथे ऐसे खिलाड़ी बने जिसे अपने डेब्यू मैच में ही मन ऑफ़ थे मैच मिला . इसके अलावा उनके 18 जून के पारी को कौन भूल सकता है, जिसमें उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ 43 गेदो पर 76 रन की धुँवाधार पारी खेली. ये तो पंड्या की शुरुआत है ,लेकिन उनमें वह काबिलियत साफ दिखाई देती है ,जो आगे चलकर इतिहास रच सकते हैं .

 

सुपरस्टार रजनीकांत Biography

 

हार्दिक के बड़े भाई कृणाल पांड्या भी एक प्रोफेशनल आल राउंडर खिलाड़ी है ,वह बड़ौदा और मुंबई इंडियंस के लिए खेलते हैं. वैसे तो हार्दिक पांड्या एक मिडल क्लास फैमिली में पैदा हुए, और उनके घर की आर्थिक हालत भी बहुत अच्छी नहीं थी .लेकिन उन्होंने अपने संघर्षो से बहुत ही जल्द , भारतीय क्रिकेट में अपनी जगह बना ली .और सभी को दिखा दिया ,कि अगर दिल से हम कुछ चाहें तो, इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं .

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 thoughts on “हार्दिक पांड्या Full Story In Hindi | Biography”