शिव खेड़ा

शिव खेड़ा के अनमोल विचार

 शिव खेड़ा

जीतने वाले लाभ देखते हैं, हारने वाले नुकसान . -शिव खेड़ा

जीतने वाले अलग चीजें नहीं करते, वो चीजों को अलग तरह से करते हैं.
-शिव खेड़ा

“यदि आपको लगता है कि आप कर सकते हैं – तो आप कर सकते हैं! अगर आपको लगता है कि आप नहीं कर सकते – तो आप नहीं कर सकते दोनों ही सूरतों में आप सही हैं  -शिव खेड़ा

विपरीत परिस्थितियों में कुछ लोग टूट जाते हैं , तो कुछ लोग रिकॉर्ड तोड़ते हैं.
-शिव खेड़ा

विजेता बोलते हैं की ” मुझे कुछ करना चाहिए ” हारने वाले बोलते हैं की ” कुछ होना चाहिए ”
-शिव खेड़ा

किसी डिग्री का ना होने दरअसल फायेदेमंद है. अगर आप इंजिनियर या डाक्टर हैं तब आप एक ही काम कर सकते हैं.पर यदि आपके पास कोई डिग्री नहीं है , तो आप कुछ भी कर सकते हैं. -शिव खेड़ा

हमारी बिजनेस से सम्बंधित समस्याएं नहीं होतीं, हमारी लोगों से सम्बंधित समस्याएं होती हैं.
-शिव खेड़ा

अगर हम हल का हिस्सा नहीं हैं, तो हम समस्या हैं.
-शिव खेड़ा

लोगों से साथ विनम्र होना सीखे| महत्वपूर्ण होना जरुरी है लेकिन अच्चा होना ज्यादा महत्वपूर्ण है |
-शिव खेड़ा

कभी भी दुष्ट लोगों की सक्रियता समाज को बर्वाद नहीं करती, बल्कि हमेशा अच्छे लोगों की निष्क्रियता समाज को बर्वाद करती है.
– शिव खेड़ा

आपने मित्रों को सावधानी से चुने | हमारे व्यक्तित्व की झलक न सिर्फ हमारे सांगत से झलकती है बल्कि, जिन संगतों से हम दूर रहते हैं उससे भी झलकती है | – शिव खेड़ा

जब कभी कोई व्यक्ति कहता है कि वो ये नहीं कर सकता है , तो असल में वो दो चीजें कह रहा होता है. या तो मुझे पता नहीं है कि ये कैसे होगा या मैं इसे करना नहीं चाहता. -शिव खेड़ा

इन्स्पीरेशन सोच है जबकि मोटीवेशन कार्रवाई है.
-शिव खेड़ा

आत्म-सम्मान और अहंकार का उल्टा सम्बन्ध है.
-शिव खेड़ा

लोग इसकी परवाह नहीं करते हैं कि आप कितना जानते हैं, वो ये जानना चाहते हैं कि आप कितना ख़याल रखते हैं.
-शिव खेड़ा

किसी को धोखा न दें क्यूंकि ये आदत बन जाती है , और फिर आदत से व्यक्तित्व |
-शिव खेड़ा

अच्छे लीडर्स और लीडर्स बनाने की चेष्ठा करते हैं, बुरे लीडर्स और फालोवार्स बनाने की चेष्ठा करते हैं.
-शिव खेड़ा

हारने वाले लोग भाग्‍य में विश्‍वास करते हैं, हिम्‍मती और पक्‍के इरादें वाले वजह और उसके नतीजों में विश्‍वास करते हैं।-शिव खेड़ा

सक्रिय रूप से राह दिखाने करने वाले अच्‍छे नेता होते हैं, और सक्रिय रूप से गलत राह दिखाने वाले बुरे नेता होते हैं।-शिव खेड़ा

अगर एक बच्‍चा गलत रास्‍ते पर चला जाता है तो इसके लिए वह बच्‍चा दोषी नहीं है, बल्कि इसके लिए उसके माता-पिता जिम्‍मेदार है।-शिव खेड़ा

 शिव खेड़ा
कभी भी दुष्‍ट लोगों की सक्रियता समाज को बर्बाद नहीं करती, बल्कि हमेंशा अच्‍छे लोगों की निष्क्रियता समाज को बर्बाद करती है।-शिव खेड़ा

पैसा लोगों के जीवन में फर्क लाने के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण टूल है।-शिव खेड़ा

वे लोग जो भविष्‍य में बहुत आगे जाना चाहते हैं उनमें सफल होने के लिए दो योग्‍यता होनी चाहिए, पहली, लोगों के साथ कुशल व्यवहार करने की और दूसरी, लोगों को कुछ बेचने की।-शिव खेड़ा

बहुत सी चीजें एक बच्‍चे की परवरिश पर निर्भर करती है।-शिव खेड़ा

मेरा पहला उद्देश्‍य है निवेश करना और इसके अतिरिक्‍त भी कुछ बच जाता है तो उसे खर्च करना।-शिव खेड़ा

अच्छे लीडर्स, हमेंशा अधिक से अधिक अच्‍छे लीडर्स बनाने के बारे में सोचते हैं, और बुरे लीडर्स, हमेंशा अधिक से अधिक अनुयायी बनाने के बारे में सोचते हैं।-शिव खेड़ा

जीतने वाले लाभ देखते हैं, हारने वाले दर्द।-शिव खेड़ा

जो लोग जीतते हैं वह कोई अलग चीजों को अंजाम नहीं देते, बल्कि वो आम चीजों को खास अंदाज में पूरा करते हैं।-शिव खेड़ा

चरित्र का निर्माण तब नहीं शुरू होता जब बच्चा पैदा होता है; ये बच्चे के पैदा होने के सौ साल पहले से शुरू हो जाता है|
-शिव खेड़ा

सत्य का क्रियान्वन ही न्याय है.
-शिव खेड़ा

जो भी उधर लें उसे समय पर चूका दें क्यूंकि इससे आपकी विश्वसनीयता बढाती है|
-शिव खेड़ा

एक देश नारे लगाने से महान नहीं बन जाता.
-शिव खेड़ा

एक बेवकूफ बिना सोचे समझे बोलता है और एक बुद्धिमान सोच समझकर।-शिव खेड़ा

साकारात्मक सोच के साथ साकारात्मक कार्यों का परिणाम सफलता है।-शिव खेड़ा

किसी भी प्रोडक्ट को बेचने के लिए 90% दृढ़ विश्वास जबकि 10% प्रोत्‍साहन होना चाहिए।-शिव खेड़ा

लम्बी अवधि के निवेश में आपको हर दिन के मैनेजमेंट की जरुरत नहीं होती है।-शिव खेड़ा

जब कभी भी कोई व्‍यक्ति कहता है कि वो ये नहीं कर सकता है, तो असल में वो दो चीजे कर रहा होता है, या तो मुझे पता नहीं है कि ये कैसे होगा, या मैं इसे करना नहीं चाहता।-शिव खेड़ा

छोटे लोग दूसरों के बारें में बाते करते हैं, बीच के लोग चीजों के बारे में बात करते हैं और महान लोग सुझाव के बारे में।-शिव खेड़ा

सफलता सिर्फ एक संजोग नहीं है यह हमारे नजरिए का नतीजा हैं और अपना नजरिया हम खुद चुन सकते हैं।-शिव खेड़ा

किसी डिग्री का ना होना दरअसल फायदेमंद हैं क्‍योंकि अगर आप इंजिनियर या डॉक्टर हैं, तो आप एक ही काम कर सकते हैं, लेकिन आपके पास कोई डिग्री नहीं हैं तो आप कुछ भी कर सकते हैं।-शिव खेड़ा

मैं लोगों का उत्‍साह बढ़ाने को अपनी योग्यता मानता हूँ और वही मेरी सबसे बड़ी पूँजी है। यही एक महत्‍वपूर्ण रास्‍ता है जिससे किसी इंसान की अच्‍छाई उभारी जा सकती है।-शिव खेड़ा

कुदरत बड़ी समझदार और मेहरबान है क्‍योंकि उसने आदमी को सोचने की क्षमता का सबसे बड़ा तोहफा दिया है, लेकिन अफसोस की बात है कि बहुत कम ही लोग इस महान तोहफे का पूरा इस्‍तेमाल कर पाते हैं।-शिव खेड़ा

आप जितनी बहसें जीतते है उतने मित्रों को खो देते हैं।-शिव खेड़ा

जो करना जरूरी है उसे पसंद करो।-शिव खेड़ा

अच्‍छे माहौल में एक मामूली कर्मचारी की भी काम करने की शक्ति बढ़ जाती है जबकि खराब माहौल में एक अच्‍छे कर्मचारी की भी कुशलता कम हो जाती है।-शिव खेड़ा

जिस तरह कोई व्‍यक्ति डिक्शनरी के ऊपर बैठने से शब्द और स्पेलिंग नहीं सीख सकता, उसी तरह कोई भी व्‍यक्ति कठिन परिश्रम के बिना अपनी काम करने की शक्ति नहीं बढ़ा सकता।-शिव खेड़ा

अपना एक विजन होना चाहिए- यह अदृश्‍य को देखने की काबिलियत है। अगर आप अदृश्‍य को देख सकते हैं तो आप असंभव को भी संभव कर सकते हैं।-शिव खेड़ा

प्रेरणा एक आग की तरह है, जिसे जलाए रखने के लिए इसमें लगातार ईंधन डालना पड़ता है। प्रेरणा को बनाए रखने के लिए आपका ईंधन “स्वंय पर विश्वास” ही है।-शिव खेड़ा

असफल होना कोई गुनाह नहीं है लेकिन सफलता के लिए कोशिश न करना जरूर गुनाह है।-शिव खेड़ा

जीवन में ऊपर उठते समय लोगों से अदब से पेश आए, क्‍योंकि नीचे गिरते समय आप इन लोगों से दोबारा मिलेंगे।-शिव खेड़ा

अनजान होना शर्म की बात नहीं है लेकिन सीखने की इच्‍छा न होना शर्म की बात है।-शिव खेड़ा

दुनिया हमें वैसी नहीं दिखती जैसी वह है, बल्कि वैसी दिखती है, जैसे हम हैं।-शिव खेड़ा

बिना कठिन परिश्रम के सफलता नहीं मिल सकती, कुदरत चिड़ि‍यों को खाना जरूर देती है, लेकिन उनके घोंसले में नहीं डालती।-शिव खेड़ा

अपने घटिया नजरिए का एहसास हो जाने पर भी हम उसे बदलते क्‍यों नहीं?-शिव खेड़ा

ए पी जे अब्दुल कलाम अनमोल विचार

हिम्‍मत का मतलब डर का न होना नहीं है, हिम्‍मत का मतलब तो डर पर काबू पाना है।-शिव खेड़ा

किसी को धोखा न दें क्‍योंकि ये आदत बन जाती है , और फिर आदत से व्यक्तित्व।-शिव खेड़ा

विजेता बोलते हैं कि “मुझे कुछ करना चाहिए”, हारने वाले बोलते हैं कि “कुछ होना चाहिए”।-शिव खेड़ा

सत्य का क्रियान्वन ही न्याय है।-शिव खेड़ा

जो भी उधार लें उसे समय पर चूका दें क्‍योंकि इससे आपकी विश्वसनीयता बढ़ती है।-शिव खेड़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *